THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Wednesday, March 19, 2014

मालाएं... A Photo Poetry

Through the Viewfinder - Photographs by Aditya


मालाएं हैं ये उन फूलों की 
प्रतिक है जो
श्रद्धा के, आस्था के 
हर देवालयों में अर्पित  
कहीं प्रार्थना तो कहीं बन दुवाएं 

सजता है, महकता है 
इन्ही से हर श्रृंगार 
इन्हे पहनाकर संबंध बने 
दिल एक हुवे परिवार 

ये बरसे आदर-हर्ष में 
हर उत्सव, हर त्यौहार 

जो ख़ुशी से आते हैं 
संग हँस लेती हूँ 
जो शोकाकुल आये 
गम बाँट लेती हूँ 
मेरे लिए तो ये हैं बस 
पेट पालने का आधार 


A Creative JV of Photography (Aditya) and Poetry (Prakash). Aditya is my colleague and friend. Away from HR (human resource) this is a experimentation on different areas of creativity. This one was clicked at Khanderao Market, Vadodara, Gujarat.   
Facebook page of Aditya :https://www.facebook.com/photosbyaditya


4 comments:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति...!
सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाए ....
RECENT पोस्ट - रंग रंगीली होली आई.

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर.
नई पोस्ट : कुछ कहते हैं दरवाजे

Digamber Naswa said...

किसी के लिए कुछ किसे के लिए कुछ ... ये जीवन भी तो कुछ कुछ मालाओं कि तरह ही है ...

Suman said...

कितना सफल होता है इन फूलों का जन्म सिर्फ देना जानते है !
सुन्दर फोटोग्राफी उसके अनुरूप रचना बहुत सुन्दर !

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...