THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (10) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Saturday, May 25, 2013

सैलाब...

मन में सैलाब बहता- उफनता रहा है 
धैर्य ना जाने क्यूँ फिर पनपता रहा है 

सोचा जहाँ कहीं भी बस, ठहर जाने को 
वक़्त अचानक सिकुड़ता- सरकता रहा है 

करेंगे इबादत पर ना मोहब्बत किसी से 
मौसम ख्यालों का दिनों-दिन बदलता रहा है     

परेशानियाँ आती जाती रही यूँही निरंतर 
जीवन हर बार बिखरता - संभलता रहा है 

मन में सैलाब बहता....

-

कमाल - प्रकाश 
(मित्र कमाल और मेरा साथ में लिखने का ये दूसरा प्रयास...) 
Prakash-Kamaal



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...