THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Sunday, March 24, 2013

उदास रहते हैं अक्सर...

Autumn in Ladakh - Image Courtesy: Harshal Jariwala















उदास 
रहते हैं अक्सर 
कभी आप किसीसे 
तो कभी कोई आपसे 

रूठना, मनाना 
चिढना, कभी चिल्लाना
बेवजह का गुस्सा
खुद ही में झुँझलाना 
यही उदासी फिर निराशा बन जाती है  

ये होता है हरदम 
कि जहाँ प्यार गहरा हो 
सम्बन्ध हो भावुक,
मेल-जोल  गहरा हो 

आशाएं और अपेक्षाएं 
इस पुरे फसाद की जड़ है 
पर इनका नियंत्रण मुश्किल है 
शायद, ये मनुष्य की प्रकृति है 

क्षणिक ही सही
पर ये भी जीवन का एक रंग है 
इसकी परछाई सी होती है ख़ुशी 
बस होता उमंग है...

8 comments:

Shashank said...

Simple & Best... :)

Pallavi saxena said...

यही तो जीवन है।

meghna bhatt said...

exactly my sentiments. superb.

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत उम्दा सराहनीय रचना,,
होली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाए,,,
Recent post : होली में.

दिगम्बर नासवा said...

जीवन के अनेकों रंगों में ये भी एह रंग है .... इसे सहजता से लेना चाहिए तो जल्दी ही उबरा जा सकता है ...

संजय कुमार भास्‍कर said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है
...बहुत बहुत आभार और होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ !!!

Manav Mehta 'मन' said...

बहुत बढ़िया

सुमन कपूर 'मीत' said...

बहुत सुंदर

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...