THEMES

LIFE (52) LOVE (29) IRONY (25) INSPIRATIONAL (10) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Thursday, February 16, 2012

नजारा बदलेगा


नज़र बदली, नज़रिये बदले,  
नजारा भी बदलेगा 
दिन आज नहीं तो कल, 
हमारा- आपका भी बदलेगा 

दुःख-पीडा, परेशानी-संकट 
सारा ताल जायेगा 
बुद्धि-श्रम, दृढ हौसलों के आगे, 
समय पलट ही जायेगा 

प्रेम-धैर्य, विश्वास-लगन से
मौसम पलटी खायेगा 
अरमानों के बादल बरसेंगे,
सुख ही सुख छा जायेगा 

अदा बदलेगी, अंदाज़ बदलेगा, 
लोगो का हमारे प्रति मिजाज़ बदलेगा  
आज जो कोई रखता है दूरी, 
कल आस पास टहलेगा.

नज़र बदली, नज़रिये बदले, नजारा बदलेगा ...

8 comments:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

वाह!!!!!!!प्रकाश जी,बहुत खूब,बहुत सुंदर रचना,
निश्चित ही समय बदलेगा,तो नजारा अपने आप ही
बदल जाएगा,.....

Jeevan Pushp said...

ऐसे बदलाव का हम सबको इन्तजार है प्रकाश जी !
बहुत सुन्दर रचना !

Yashwant Mathur said...

कल 18/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

vidya said...

आज जो कोई रखता है दूरी..
कल आस पास टहलेगा..

वाह!!
बहुत खूब कहा..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

नज़र ही तो नहीं बदलती ... अच्छी प्रस्तुति

मेरा मन पंछी सा said...

आज जो कोई रखता है दुरी
कल आस पास टहलेगा:-)
ऐसा हो जाये तो क्या बात है
बेहतरीन रचना....

दिगंबर नासवा said...

Badlav to nishchit hi hai .. Sab kuch badal raha hai pal pal ...

पंछी said...

aashavadi sundar rachna

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...