THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Wednesday, August 24, 2011

गुस्सा आता है

गुस्सा आता है 
मन भभक उठता है
वक़्त कि सख्ती पर, 
क्रूरता पर 
उन क्षणों में,
जब हम बेबस और लाचार होते हैं केवल 
दर्द- तकलीफों को देखना, बस 
तब जब आप जानते हैं परिणाम क्या होगा 
उन लम्हों पर 
जब ज़िन्दगी से ज़िन्दगी कि लड़ाई होती है 
वो वक़्त कि जब 
फैसले लेने पड़ते हैं, अनचाहे, अकेले 
टूटे हुवे हौसलों पर
उम्मीदों पर 
आंसुओं को रोकते हुए 
उस बेतुकी सी आस्था पर,
उन ढोंगी रवैयों पर 
और इन सबसे ज्यादा, 
जिंदगी के सूनेपन पर, आज 
गुस्सा आता है 


Theme By : Ms.Nidhi Shendurnikar Tere

Monday, August 15, 2011

सिरहाने सपने











सिरहाने
रख सोये भी, रोये भी
सपने देखे भी कई, संजोये भी
कभी जागते ख्यालों में;
कभी करवटों में लिपटे से,
कभी ख़र्राटों से बेसुरे बद्तर,
कभी अंगड़ाइयों में आलसी से 
कि जब-जब डरावनें से आते हैं;
सच कहूँ? सहम से जाते हैं
कि जीवंत होती है इनमे यादें जब भी; 
दर्द में ये भी भीग जाते हैं
एक ज़िन्दगी सी होती है इन सपनो कि भी
काश ! ये सच भी होते कभी ?  

Theme by: Ms.Meenakshi Kurseja


Image Coutesy: Mr.Jinit Soni

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...