THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Saturday, December 17, 2011

पहला प्यार...

प्रस्तुत कविता का विषय और विचार मेरे प्रिय मित्र कमाल त्रिवेदी का है....प्यार हर एक के जीवन में महत्व रखता है...कई बार इसी चक्कर में कुछ खयाली हादसे भी हो जाते हैं...वक़्त के साथ काफी बदलाव आते हैं...पर इन सब के बीच ज़िन्दगी में पहले प्यार का एक बेनमून रोमांच होता है और कितनी भी उम्र गुज़र जाए, चाहे आप कितना भी और प्यार पा लें पर कहीं न कहीं पहला प्यार याद रहता है हरदम,,,,आशा रखता हूँ प्रस्तुति आपको आपके पहले प्यार की याद जरुर दिलाएगी....और हाँ यदि अभी तक आपको अनुभव नहीं हुवा तो हम तो इतना ही कहेंगे, पहला ही आखिरी हो ऐसा चयन करें..:-) 


वो पहला प्यार 
वो अजब सा आकर्षण
वो नज़रों का शिथिल हो जाना 
वो चुम्बकीय आलिंगन 

क्या रोमांच था 
उन मीठी सी बातों में 
छुप-छुप कर हुई चंद मुलाकातों में 
आँखें बतियाती थी जब 
एक पागलपन सा था अनकहा 

सोते और जागते सपनों में 
अधूरे संदेशों में 
खामोश सी आहटों में 
कि जैसे ही दोस्ती की दीवाल कूद गिरे 
प्यार के मैदान में 
कमबख्त, 
चोट आज भी महसूस होती है 
ये ना भरने वाला घाव है 
दवा-मरहम सब बे-असर है 

पंखुड़ियों पे तेरी, 
भ्रमर सा मेरा चुम्बन 
वो हवाओं की नर्मजोशी, 
वो जिंदगी का आलिंगन 
वो शब्द, वो लम्हे, वो साथ 
एक उर्जा थी वक़्त में भी 
हर गीत, ग़ज़ल, नज़्म 
अपनी सी लगती थी

वक़्त के साथ, सब बिखरा 
प्यार मिला शायद और ज्यादा 
पर- मगर - लेकिन 
आज भी कहीं ना कहीं
वो खुशबू कायम है 
एक अधुरा ख्याल 
जीवित है 
उस अनूठे आकर्षण का 
उस एहसास का 
ज़िन्दगी बंदगी थी जब
उस पहले प्यार का......  

A Theme by: Mr.Kamaal Trivedi


37 comments:

Vishwa Vyas said...

Superb...

Kailash Sharma said...

बहुत भावमयी सुंदर प्रस्तुति..

Pratiksha said...

Good.

dheerendra said...

रोमांश के रोमांच की रोचक रचना,...रुचिकर पोस्ट ..!!!!!!!
मेरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

vidya said...

nice romantic poem...
good.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सुन्दर प्रस्तुति ..

रश्मि प्रभा... said...

अच्छी रचना

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत खूब!
-----

कल 19/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....शानदार |

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....शानदार |

Shreya said...

lovely description of first love. :)

ILA PANDYA said...

XELLENT DIRECTION & SUPERB PRODUCTION...!!!

आशा said...

बहुत भावपूर्ण |
आशा

सदा said...

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Keyur said...

Excellent Sentiments...........with full of romance and feel........

meghna said...

Beautiful

दिगम्बर नासवा said...

वाह .. पहले प्यार की बयार बिखेर दी फिजां में आपने ...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

खूबसूरत अभिव्यक्ति....
सादर...

Jyoti Mishra said...

sweet, simple...
covered almost everything :P

Some very fantastic lines [1st 4 lines of second last pare]..

Fantastic read..

PS: sorry 4 responding so late !!

Point said...

वक्त बे वक्त तेरी याद का दायरा यु बड़ा ....हम बड़े पर हमारा जीवन ना बड़ा

Rajput said...

इतने सुन्दर गीत के लिए बहुत बहुत बधाई .
खुबसूरत शब्दों म पिरोई हुई रचना

Ruchi Jain said...

आपकी कविता बहुत अच्हे शब्दों से बनी है, काफी अच्हा वर्णन है |

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 22 -12 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज... क्या समझे ? नहीं समझे ? बुद्धू कहीं के ...!!

Reena Maurya said...

prembhav liye bahut sundar rachana hai...

***Punam*** said...

बहुत सुन्दर...
बस यही कुछ पंक्तियाँ याद आती हैं...

कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन...!!

dheerendra said...

सुंदर प्रस्तुति,.....

मेरे पोस्ट के लिए "काव्यान्जलि" मे click करे

पुष्पेन्द्र वीर साहिल said...

कोमल एहसासों की कोमल कविता... सुन्दर, बहुत सुन्दर!!

Amrita Tanmay said...

सही कहा उस अनूठे आकर्षण से हम कभी नहीं निकल पाते हैं ..

vikram7 said...

सुन्दर
v7: .इतने दिनों बाद........

संतोष कुमार said...

वाह बहुत खूब बहुत सुंदर !

रश्मि प्रभा... said...

jane kahan wo din ...

देवेन्द्र पाण्डेय said...

पहले प्यार की प्यार भरी यादें..

सदा said...

वाह ...बहुत खूब ।

Monika Jain "मिष्ठी" said...

beautiful :)

संजय भास्कर said...

किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

Shubhangini said...

Only 2 words...."simply amazing"

Madan Mohan Saxena said...

वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार भाषा सरल,सहज यह कविता,
भावाव्यक्ति है अति सुन्दर।

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...