THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (10) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Tuesday, September 7, 2010

मुलाकात...


कभी कुछ पल हमारी-आपकी मुलाकात हो,
तनहा सी निगाहों के कुछ ताल्लुकात हो। 
कैद नजरों में आपको कर लूँ इस तरह, 
फिर जब चाहूँ, जहाँ चाहूँ आपका साथ हो। 

कि दिन भी न ढला हो, न हुई रात हो, 
फिजा आपसे महके, नर्म एहसास हो। 
कुछ हम बोलें, कुछ आपकी बात हो, 
और कुछ अनकहे से थोड़े संवाद हो ।

खुश आप हों, हम तो होंगे ही जरुर, 
लगे यूँ कि मानो कोई त्यौहार हो ।
उपहार में दे दूँ दिल मेरा आपको,  
आमने सामने भी कभी इजहार हो ।

रोक दूँ वक़्त के उन हर एक लम्हों को, 
बस आप हों, मैं हूँ, और प्यार ही प्यार हो । 
भुला दूँ ये दुनिया,सारी कायनात को, 
न जाने फिर भला कब ये इत्तेफाक हो ।

Image Courtesy: 1. Google, 2. Ms.Shambhavi Upadhyay
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...