THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Saturday, May 1, 2010

संत-बाबा अलग है...



हर गाँव, हर शहर, संत-बाबा अलग है,
सफ़ेद-गेरू-काला , पहनावा अलग है
सभी का लक्ष्य प्रभु के करीब पहुँचाना
जुलूस-प्रदर्शन ढोंग-दिखावा अलग है 


दुकानें अलग है, ग्राहक अलग है
अलग चेला-मंडली, व् चाहक अलग है
सभी की अपनी गुरु वाणी अलग है
सुबह संत-योगी, रात भोगी अलग है 


प्रभु अलग है, नाम-ब्राण्ड अलग है
कथाएँ अलग है व् काण्ड अलग है
मंदिर-आश्रम-गाडी व् मकान अलग है
 सियासत में सबके कदरदान अलग है


दान मांगने के सभी के आह्वान अलग है
प्रचार माध्यमो से बनी पहचान अलग है
 न कर है इनपर, न सम्पति के पैमाने
काला से सफ़ेद धन बनाने के बहाने अलग है   

हर गाँव, हर शहर, संत-बाबा अलग है...

4 comments:

Keyur said...

ab lagne wali hai baba o ki vat

meenu said...

jai ram ji ki.............. asharam bapu ki pehle lagana

meghna said...

going gr8 Prakash...

Rakesh Kumar said...

जय हो,जय हो.

बहुत अच्छी लगी आपकी प्रस्तुति.

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...