THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Monday, June 29, 2009

Attraction And Love


Attraction and Love

Why do people like or dislike each other?

Why, among the countless people we meet during our lives, do we have especially intense positive feelings toward only a few the persons with whom we fall in love?

-Findings are surprising.

Interpersonal Attraction: Why we like or dislike others?

Think of some one you like very much, some one you strongly dislike and some one you’d place in the middle of this dimension. Now ask yourself

Why do you have these reactions???

  • Propinquity: Nearness makes the Heart Grow Fonder

Many friendship and romances start when individuals are brought into contact with one another. often by chance. We tend to form relationship with people who sit nearby in class, live in our neighborhood , work in the same office. So, propinquity-proximity or physical closeness to others-is an important interaction.

This is known as Frequency-of-Exposure Method.

  • Similarity: Liking Others Who Are Like Ourselves

Why do we like others who are like ourselves?

The most plausible explanation is that such persons provide validation for our views or our personal characteristics. That is, if another person agrees with us , or is similar to us in behaviour,

This indicated that our views, preferences and actions are correct- or at least shared by someone else. This makes us feel good and our liking for the other person increases. Whatever the precise mechanism involved, similarity is certainly one powerful determinant of attraction.

  • Affective States: Positive Feelings as Basis For Attraction

Positive feelings or moods- what ever their source-cause us to like others we meet while experiencing them; negative moods-again-again whatever their source-cause us to dislike others we meet when we are feeling low.

If our positive feelings are produced by something another person says or by the person looks , we will tend to like that individual. But even if our positive feelings have nothing to do with the person- we may still experience a boost in our liking for the person.

  • Physical Attraction : Beauty May Be Only Skin Deep, But We Pay lots of Attention to skin

Perhaps the most obvious factors affecting interpersonal attraction is physical beauty. Research findings indicate that, alas, we are indeed suckers for a pretty or handsome face.

Why is this case?

One reason is that physically interactiveness is associated with good reproductive capacity; choosing attractive mates, therefore is one strategy for increasing our chances of contributing our genes to next generation.

LOVE: The Most Intense Form of Attraction

Romantic Love: A form of love involving feelings of strong attraction and sexual desire towards another person. However, there are several other kinds of love too, such as the love of parents for their children, or the kind of love one can observe in couples who reach their fiftieth wedding anniversary (known as being companionate love).While these kinds of love are not the focus of as many television programs or films as passionate love, they too are recognized by psychologist as being very important.

So what, precisely does romantic love involve?

Most experts agree that three components are central:

  • Before we say that we are “in love”, the idea of romantic love must be present in our culture. It is difficult if not impossible for people to say when it is lacking “I am in Love”.
  • We must experience intense emotional arousal when in the presence of an appropriate person- someone defined by our culture as suitable object for such feelings.
  • These feelings must be mixed with the desire to be loved by the object of our affection, coupled with fears that the relationship might end.

Only, if these conditions are present can we state with certainty, “I’m in love”.

LOVE: How and Why It Occurs?

Although it is a powerful reaction-one of the strongest we ever experience-romantic love often develops quite suddenly. Many people report that falling in love feels like being stuck by emotional lighting.

How can such powerful reaction develop so quickly?

  • We are prepared to fall in love by our earlier relations.
  • Through reproductive success of our species depends on two factors:

1) A desire on the part of men and women to engage in special intercourse, and

2) An interest in investing the time and effect required to feed and protect offspring.

Pure Lust, which would ensure only sexual behaviour, was not sufficient; so over time, human being with a propensity to form long-term relationship- to fall in love.

The result: We are genetically programmed to fall in love.

LOVE: Why It Sometimes Dies/Why Love Fades?

  • Boredom
  • Jealousy
  • Self Defeating Behaviors
  • Increasing Negative Effect
  • Fearful Avoidant Attachment Style
  • Growing Recognition of Dissimilarity

Some Guidelines for having a Happy Romantic Relationship:

· Never both be angry at the same time.

· If one of you has to win an argument, let it be your mate.

· If you must criticize, do it gently.

· Never bring up mistakes of the past.

· At least once a day, say something kind or complimentary to your partner.

· When you have done something wrong, admit it and ask for forgiveness.

· Never go to sleep with an argument unsettled.

· Never take your partner for granted.

Pay attention, step forward in right direction.

Wish you a very happiness….

With Love

Prakash Jain

Friday, June 26, 2009

परिवर्तन

कहते हैं हो रहा परिवर्तन, हो रहा परिवर्तन


आज जब देश के नेताओं में ही नहीं मिट पा रहा कुर्सी का ललकपन
वे कर चुके हैं अपने जीवन को देश लूटने में अर्पण
कहते हैं हो रहा परिवर्तन...

मजहब के नाम पे बंध की जा रही ना जाने कितने दिलों की धड़कन
और उधर नए तौर-तरीकों से भर रहे नेता,
अपने घर की तिजोरी, लॉकर और बर्तन
कहते हैं हो रहा परिवर्तन...

सोने की चिडिया से लूट कर बना दिया देश को खाली दर्पण
नहीं है इन पर किसीका नियंत्रण, सबका मिला इन्हें समर्थन
कहते हैं हो रहा परिवर्तन...

गरीबी, बेरोज़गारी और बढ़ती महंगाई ने बदला आम आदमी का वर्तन
सब प्यासे बन बैठे हैं इक दूजे के खून के, नेताओं का होता मनोरंजन
कहते हैं हो रहा परिवर्तन... 

जब तक ना होगा किसी नेता के मन में, राष्ट्र के प्रति सच्चा समर्पण
तब तक मेरी मानिये, नहीं हो सकता राष्ट्र का परिवर्तन 

कहते हैं हो रहा परिवर्तन...
-प्रकाश जैन


Monday, June 22, 2009

Kabhi Kabhi...

कभी कभी...
कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है
आखिर क्यूँ? सबको ये प्यार हो जाता है ?

कभी सोचता हूँ की ये है सिर्फ एक आकर्षण
लेकिन फिर क्यूँ ये इतना सताता है?
कभी कभी ...........
मनुष्य हो,देवता हो या हो राक्षस
अरे ! ये तो पशुओं में भी पाया जाता है
कभी कभी .........
कभी सोचता हूँ कि ये है सिर्फ एक लगाव, या एक रोग
तो फिर क्यूँ ये हर एक को हो जाता है
कभी कभी...........
कभी सोचता हूँ ये है एक आस्था, एक विश्वास
पर कुछ को तो ये कईयों से हो जाता है
कभी कभी.........
कभी सोचता हूँ कि ये है सिर्फ एक सुखद आलिंगन
जिसके विचार-मात्र से मनो एक ज्वालामुखी फट जाता है
कभी कभी..........
कभी सोचता हूँ कि ये है हर जीव में व्याप्त
तो फिर क्यूँ ये इतनी सारी समस्याओं को बढाता है

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है
आखिर क्यूँ? सबको ये प्यार हो जाता है?????

-प्रकाश जैन

Elections...चुनाव...

लो फिर एक बार आ गए चुनाव
वही भाषण, वही वादे, आएगा बदलाव 

गरीवी हम मिटा देंगे, मंदिर हम बनवा देंगे,
और कुछ ना हुवा तो, आरक्षण ही दिलवा देंगे

हमे वोट दो, हम एक नया भारत बनायेंगे
साठ साल में नहीं हुआ, वो अब कर के दिखलायेंगे

हर पार्टी का अपना दूल्हा, सबकी अपनी बारातें
जनता के पैसे फूंके , जैसे मिली खैरातें

अभिनेता, खिलाडी सभी समर्थन को आगे आयेंगे
तो कुछ अपना भाग्य आजमाने पार्टी में घुस जायेंगे

खुद को नहीं संभाल सकते , वो देश को संभालेंगे
देश गया भाड़ में, अपना नोट-बैंक बना लेंगे

फिर जन-जागृति कार्यक्रम होंगे, इक नयी पहल सी छायेगी
वोट कीजिये, अच्छा नेता चुनिए, ये आवाजें आयेगी

मत-गिनती में घपले होंगे, कहीं होंगे पुनः चुनाव
बिना पक्ष के नेताओं के, खुल्ले-आम लंगेगे भाव

फिर मिलीजुली सरकार बनेगी, मंत्रालय बँट जायेंगे
मिलबाँट कर देश को लूटेंगे, मिलबाँट कर ही खाएँगे

फिर हम अपनी कलम से अपना व्यंग बताएँगे
आशा रखता हूँ, क्या है करना, आप खुद ही समझ जाएँगे...!

-प्रकाश जैन
ली: १५.०४.२००९

बुढापा,,,,एक व्यंग

जैसे जैसे ये है करीब आता,
मनुष्य का शारीरिक ढाँचा बिगड़ता ही जाता
मनुष्य बनता संवेदनशील, पर खो देता दिमागी आपा

नई-नई लगती बीमारी,
दाँत है गिर जाते, पेट हो जाता भारी,
आँखों से बराबर दिख नहीं पाता,
कानों में बहरेपन का असर छा जाता
सिर से बालों का जमावडा उड़ जाता
फिर भी आदमी कंघी की लत को दोहराता

यह होता है समय ऐसा,
जब मनुष्य अपने आप को अपने पुत्र-पुत्रियों के बीच है पाता
अपनी संतानों के साथ भले न हो खेला कभी
मगर उनको जरुर है खिलाता
उनके बीच अपने आप को बच्चा सा बनाता

इस बीच अगर घर के माहोल में सुख-शांति हो तो ठीक
वरना बुढौती पे कहर है छा जाता
और कई बार इन सब का कारण वो खुद बन जाता
परिणाम स्वरुप ये है पाया जाता
कि इक संयुक्त परिवार ताश के पत्तों कि तरह टूट जाता
और वृद्ध का जीवन बिन चक्के कि गाड़ी सा हो जाता

नई पीढी, नए युग, नए विचारों के तले, वह है दब जाता
और फिर वो अपनी कहानी दूसरों को है सुनाता
भले खुद रहा हो जीवन में असफल
पर अपनी सफलता कि सुई सभी को चुभाता
आधुनिक जीवन कि सुनामी में वो है डूब जाता, टूट जाता

लेकिन ये भी है एक क्रूर सच
कि हर इंसान के जीवन में एक दिन बुढापा
आता, आता.............. और जरुर है आता




Disclaimer Note:
This above poetry is not to hurt any elder neither to deny the respect for old, but just with a few self-experiences in life and observation had written this one long back. Not to be taken in other ways. 

Saturday, June 20, 2009

क्यूँ बढ़ रहा है ये आतंकवाद ?


क्यूँ बढ़ रहा है ये आतंकवाद?

ये कैसा हो-हल्ला ये कैसा संवाद
सिर्फ बम-गोली का हो रहा है नाद
क्यूँ बढ़ ………………..............?

हमारी आज़ादी पर क्यूँ मर रही रोज़ यूँ लात

सरे आम छुटती गोलियाँ, बन रहा नया रिवाज़
क्यूँ बढ़ ……………………….?

हर बार मर रहे बच्चे , बूढे और जाँबाज़,

फिर भी न जागते हम, न आती है लाज
क्यूँ बढ़ ……………………….?

हमारे कुछ अपने भी दे रहे जुर्म का साजचंद पैसों की चाह में , 

जिहाद के बह्कावे में ,भुलाते देश-समाज
क्यूँ बढ़ ……………………….?

उधर देश चल रहा बूढे भ्रष्ट व अनपढ़ नेताओं के कंधो पर

जिन कंधो की जिम्मेदारी न जाने कितने कंधो पर
घटना के बाद इस्तीफे क्या यही है आतंकवादियों का इलाज़,
क्यूँ बढ़ ……………………….?

कुर्सी के लोभी वोटों के भिखारियों को पहनाते हम ताज,

अपने कार्य के लिए देते रीश्वत, कहते भ्रष्ट समाज
देशद्रोहियों को देते शरण, न उठाते आवाज़
फिर कहते हैं बढ़ रहा आतंकवाद

अब भी वक़्त है , जागो आप तो जागेगा समाज,

आइये उठायें आतंकवाद और भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ आवाज

प्रकाश जैनली: 

३०.११.०८

Friday, June 19, 2009

चलता जा तू संभल-संभल कर.........

पल पल हरपल जीवन इक हलचल,
चलता जा तू संभल-संभल कर.........

मन हर्षित कुछ पल , बेचैनी निश्चल
हर तरफ कोलाहल, हर मन में छल
चलता जा तू .........

सपने अरमानों के भंवर में
तू अपना लक्ष्य चयन कर
कठिन रास्ते, तकलीफों को सहकर
आगे बढ़ता जा तू डटकर
चलता जा तू .........

संयम, सत्य को अपना कर
तू निशदिन आगे बढ़ चल

दृढ निष्ठा, सच्ची सोच के बलपर
दुःख मुश्किलें सब जायेगी टल
चलता जा तू .........

काँटों में रह, फूलों सा खिलकर
महका ले हर पल को हँसकर
जीवन एक महफिल है प्यारे
जीले इसको तू जमकर
चलता जा तू संभल-संभल कर.........

-प्रकाश जैन
लि: ०५.०४.२००९

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...