THEMES

LIFE (52) LOVE (28) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (7) NATURE (3)

Thursday, September 10, 2009

जीवन हर क्षण...


जीवन हर क्षण क्यूँ इतनी परीक्षाएं?
व्यर्थ ही क्यूँ देनी पड़ती इतनी समीक्षाएं?
लाख कोशिशों के बावजूद,
क्यं कभी-कभी ही मिलती सफलताएं ?
सीख और ज्ञान बाँट रहा है हर कोई,
पर क्या जरुरी है उसे हम अपनाएं ?
जानते व् मानते हैं खुद को चतुर
पर क्यूँ न समझे कोई हमारी विशेषताएं ?
लोगों में प्रसन्न रहना तो है एक दिखावा
गम छुपा है कितना , क्या बोलें - क्या बतलाएं ?
तजुर्बे-जिंदगी-गम झेलकर हुआ है ऐसा
कि सोचतें हैं चलो फिर से आजमायें

जीवन हर क्षण क्यूँ इतनी परीक्षाएं?

व्यर्थ ही क्यूँ देनी पड़ती इतनी समीक्षाएं?

1 comments:

Anonymous said...

Good one
Absolutely creative
Keep it up.....
Kiritsinh Gohil

Post a Comment

Your comments/remarks and suggestions are Welcome...
Thanks for the visit :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...