THEMES

LIFE (50) LOVE (27) IRONY (25) INSPIRATIONAL (9) FRIENDSHIP (6) NATURE (3)

Saturday, September 3, 2016

पोर्टरेट ऑफ किरायेदार


हर वो मकान याद है, 
जिसे हमने घर बनाया था
दीवारों में जब बस जाए परिवार, जीवन  
उसे ही घर कहते हैं न ? 

बड़ी बारीकी से टंटोला था, 
हर बार खाली करते समय 
कहीं कुछ रह न जायें, छूट न जाये 
पर फिर भी रह गया; कुछ न कुछ; 
नहीं बल्कि बहुत कुछ

सामान वगैरह तो ज्यादा नहीं 
पर वो जिंदगी जो हमने जी थी वहाँ  
लम्हे हंसी-ठिठोलियों के, ख़ुशी के 
वो संघर्ष जो लड़ते रहे, 
या गम जो बाँट लिए 

वो सपने अधूरेवाले 
आज भी पड़े होंगे कहीं; 
अलमारियों के कोने में  
वो कील जो लगा थी दीवालों पे हमने, 
उन्हें अपना सा समझकर   
वो खिड़कियां, नज़ारे
वो बीत मौसम, सुबह शाम 

इन्ही में कहीं कोई 
जो छोड़ गया साथ 
मुरझा गया था वो घर भी मकान होकर 
छूट ही तो गया न सब 

न जाने कितने ही मकान 
राह तकते होंगे हमारी, 
कोई आये थोड़ा जीवन मिले 
फिर से ये चार दीवारी घर बने 


   








Thursday, April 30, 2015

उदाहरण कुछ करके दीजिये, लोग बेहतर समझेंगे



अमीरी दिलों-रिश्तों में हो तो कुछ बात है 
कोठी-जायदादों में भला क्या रक्खा है
सम्बन्धो में बनना-बिगड़ना लगा रहता है 
प्यार ढूंढिए आपने आपमें ही छुपा रक्खा है 

फ़ोन- इंटरनेट से चले; संपर्क हेंग ही हुवे  
दिखावटी इस सोसियलपने में क्या रक्खा है 

राजनीति वादों से ही है चलती रही सदा   
फ़िज़ूल उम्मीदों को सबने बनाये रक्खा है 

भ्रष्ट को ही ट्रस्ट आप बस करते जाइए 
इन आदतों को हमने ही बढ़ा रक्खा है 

एक अरसे से कर(tax) भरकर भी न विकसित हुवे 
इस ईमानदारी को मुश्किल से बनाये रक्खा है 

उदाहरण कुछ करके दीजिये, लोग बेहतर समझेंगे 
सलाह-मश्वरे कोरी बातें हैं, बातों में भला क्या रक्खा है 


शब्दार्थ:
हैंग (Hang) - रुकावट, अटक जाना का अंग्रेजी शब्द (आजकल आम समस्या है :-)  )   
सोसियलपना - अधिक सामाजिक होने के दिखावा जो केवल यांत्रिक है (नया प्रायोगिक शब्द अंग्रेजी मिलावट के साथ),  


करीब एक साल बाद कुछ शब्द-प्रयोग हुवा। कैसा लगा बताइयेगा ?



Wednesday, December 31, 2014

चलो फिर नए से शुरू करते हैं...


Tuesday, April 22, 2014

ये नेता है, रंग बदलेंगे

ये नेता है, रंग बदलेंगे 

कुछ चुनावों से पहले 

कुछ चुनावों के बाद. 
कभी चुनावी साथी
कभी संग बदलेंगे 
ये नेता है, रंग बदलेंगे 

कुछ मौन रह कर 
तो कुछ बकबका कर, 
कुछ बस नौटंकियों से
देश का ढंग बदलेंगे 
ये नेता है, रंग बदलेंगे 

जाति-धर्म में बांटेंगे  
इतिहास नए सुनाएंगे, 
लुभावने से वादे देकर 
जनता को बस ठग लेंगे 
ये नेता है, रंग बदलेंगे 

कोशिश इस बार करें  
सोचें-जानें-समझें फिर चुनें 
वर्ना फिर इनका क्या है 
नस्ल गिरगिटिया, रंग बदलेंगे 
ये नेता है, रंग बदलेंगे 

Wednesday, March 19, 2014

मालाएं... A Photo Poetry

Through the Viewfinder - Photographs by Aditya


मालाएं हैं ये उन फूलों की 
प्रतिक है जो
श्रद्धा के, आस्था के 
हर देवालयों में अर्पित  
कहीं प्रार्थना तो कहीं बन दुवाएं 

सजता है, महकता है 
इन्ही से हर श्रृंगार 
इन्हे पहनाकर संबंध बने 
दिल एक हुवे परिवार 

ये बरसे आदर-हर्ष में 
हर उत्सव, हर त्यौहार 

जो ख़ुशी से आते हैं 
संग हँस लेती हूँ 
जो शोकाकुल आये 
गम बाँट लेती हूँ 
मेरे लिए तो ये हैं बस 
पेट पालने का आधार 


A Creative JV of Photography (Aditya) and Poetry (Prakash). Aditya is my colleague and friend. Away from HR (human resource) this is a experimentation on different areas of creativity. This one was clicked at Khanderao Market, Vadodara, Gujarat.   
Facebook page of Aditya :https://www.facebook.com/photosbyaditya


Sunday, February 2, 2014

अखबार छपते ही हैं अब तो रद्दिवालों के लिए...
















अखबार छपते ही हैं अब तो रद्दिवालों के लिए 
सच्चाई लुप्त होती जा रही पढ़नेवालों के लिए 

एक वक़्त था जब हर सुबह रहता था इंतज़ार 
अब मंगवाते हैं आदतन; रश्म निभाने के लिए 

कागज़ भी बेहतर हुवा, छपाई अब रंगीन 
क्या बस यही काफी हे बेहतर बनाने के लिए? 

सम्पादकीय असर में डूबे, लेखों में कसीदे 
पत्रकारिता स्तरहीन पहला बन पाने के लिए 

समाचारों में विज्ञापन या विज्ञापनों में समाचार 
टंटोलना पड़ता है हर कोना समझ पाने के लिए 

'प्रैस' कहलाना औहदा बना, कहीं बना व्यवसाय 
कहीं जरिया जनता को, गुमराह बनने के लिए 

माना कुछ होंगे शायद आज भी सच्चे-ईमानदार 
दौर मुश्किल बड़ा इस राह चलनेवालों के लिए  

अखबार छपते ही हैं अब तो रद्दिवालों के लिए... 


Theme by : Shree Navin C. Chaturvedi (http://thalebaithe.blogspot.in/)

श्री नवीन सर के एक फेसबुक स्टेटस से ये विचार आया/ उठाया और आगे जो हुवा वो आपके सामने प्रस्तुत :-)


Monday, December 9, 2013

कलम की चित्रकारी....





कवितायेँ जो लिख देते हैं तुम पे 
चलते- फिरते,सोते- जागते 
पड़ी रहती हैं, अक्सर 
डायरी- नोटपैड के पन्नों पे
कुछ मोबाइलिया बनी 
त्वरित संदेशों में,  
कुछ कहीं किताबों के बीच 
अकेली, गुमसुम  
तो कुछ अस्त-व्यस्त, बेसहारा
कुछ तो बस खो ही गयी, 
उन्हें याद कर पाना भी मुश्किल है 
हर अनुभव, हर ख्याल तुम्हारा ही तो है 
बस शब्द मेरे हैं टूटे-फूटे
तुम्हे अच्छे लगते हैं न, शायद  

चित्रकार होते
तो बात अलग होती जरा 
कतारें लग जाती तुम्हारी तस्वीरों की 
हर इक अदा को रंग देते, 
हमारे रंगों से
केनवास इतराता खुद पर   
एक संग्रहालय बनाना पड़ता
इन निशब्द मगर 
बोलती तस्वीरों को रखने 
सहेजने खातिर 

माना इस कला से दूर हैं  
पर क्या ये सच नहीं 
मेरे शब्द बना ही तो देते हैं, एक तस्वीर 
हर बार, हर कविता में 
क्या ये नहीं,  
कलम की चित्रकारी ?  

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...